गुरुवार, 12 जनवरी 2012

विनिमय

एक बार एक चौराहे पर एक गरीब कवि मूर्ख धनी से मिला, और बातचीत की | और जो भी उन्होंने कहा उससे सिर्फ उनका असंतोष व्यक्त हुआ |

उसी समय राहों का देवदूत वहां से गुजर रहा था, और उसने दोनों के कंधे पर अपना हाथ रखा |

और एक चमत्कार हुआ : दोनों ने अपनी संपत्तियों की अदला बदली कर ली |

और उन्होंने विदा ली | लेकिन काफी अजीब वाकया हुआ, कवि ने देखा और पाया कि उसकी मुट्ठी में एक फिसलती रेत के सिवा कुछ नहीं है; और मूर्ख ने अपनी आँखों को बंद किया और घुमड़ते बादलों के अलावा दिल में कुछ और महसूस नहीं किया |


1 टिप्पणी:

  1. व्यक्ति की सोच पर ही उसके व्यक्तित्व उसकी खुशी निर्भर होते हैं

    आभार बेहतरीन कहानियां शेयर करने के लिये

    उत्तर देंहटाएं

हमारा प्रयास आपको कैसा लगा ?